लिपोसोमल एमफोटेरीसिन-बी

वर्णनः

भारत का पहला लिपोसोमल एमफोटेरीसिन बी, फंजीसोमेटम का विकास डीबीसी तकनीक के इस्तेमाल से किया गया और इसे मेसर्स लाइफकेयर इनोवेशंस प्राइवेट लिमिटेड को एनआरडीसी द्वारा हस्तांतरित कर दिया गया। कंपनी को इसका लाइसेंस इसके औद्योगिक इस्तेमाल और आगे इसमें सुधार करने और एमफोटेरीसिन-बी के डोज से संबंधित विषैलेपन की तुलना आयातित लिपिड फार्म्युलेशंस जैसे एमबीसोम, एंफोलिप (अबेलेक्ट) और एम्फोसिल (एम्फोटेक) से की जा सके। आज जैसा कि लाइफकेयर इनोवेशंस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा दावा किया जाता है, इस श्रेणी में देश में उपलब्ध दवाओं की तुलना में फंजीसोम सबसे कम जहरीली दवा है।