तकनीकी-व्यावसायिक सहायता

एनआरडीसी का मुख्य कार्य "इनोवेशन श्रृंखला" में रही कमी को पूरा करने के लिए ऐसी आवश्यक तकनीकी और आर्थिक सहायता करना है जिसके द्वारा श्रेष्ठ आविष्कार या प्रक्रियाएं उद्योगों द्वारा तत्काल अपनाए जाने के लिए रूपांतरित और विकसित की जा सके।

उद्योगों द्वारा स्वीकार्य होने के लिए प्रयोगशाला मापदंड वाली प्रोद्योगिकियों की उपयोगिताओं को बढ़ाना आवश्यक होता है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य छोटे-छोटे विषयों जैसे उत्पाद का परीक्षण, मैदानी परिस्थितियों में परिणामों की वैधता की पुष्टि करना, आदिप्ररूप में सुधार करना और विस्तृत जानकारी दस्तावेज तैयार करने जैसी समस्याओं को, दूर करने में आवेदकों की अपेक्षित सहायता प्रदान करना है।

इसयोजनाकेअंतर्गतएनआरडीसीभारतीयआविष्कारकर्ताओं/वैज्ञानिकों/तकनीकीविद्वानों/ एनआरडीसीकेपुरस्कारविजेताओं/एनआरडीसीअनुज्ञप्तिधारकोंआदिकोउनकेद्वाराविकसितप्रोद्योगिकीकोउद्यमियोंऔरउद्योगोंद्वारावाणिज्यिकऔरस्वीकार्यबनानेकेलिएतकनीकीऔरव्यावसायिकसहायताप्रदानकरताहै।तकनीकीवव्यावसायिकसहायतानिम्नलिखितउद्देश्योंकेलिएप्रदानकीजातीहै:-

क्र सं.तकनीकी-व्यावसायिक सहायता का प्रकारसहायता की अधिकतम राशि (रू.)
1.

व्यावसायिक रूप से स्वीकार्य बनाने के लिए आदिप्ररूप में सुधार करना

2,00,000
2.

प्रक्रिया परीक्षण/फ़ील्ड परीक्षण/जांच विशलेषण/ करना

2,00,000
3.

आविष्कार/इनोवेशन (आवंटित की जाने वाली या आवंटित की गई प्रोद्योगिकी के मामले में कार्यरत स्थिति की फ़िल्म या एनिमेशन बनाना

25,000
4.

पूर्व व्यवहार्यता रिपोर्ट (व्यावसायिककरण के लिए एनआरडीसी को सौंपी गई तकनीकी जानकारी के लिए) बनाना

25,000
5.

विस्तृत जानकारी दस्तावेज (व्यावसायिककरण के लिए एनआरडीसी को सौंपी गई तकनीकी जानकारी के लिए) बनाना

25,000
6.

प्रोद्योगिकी का प्रदर्शन (कच्चा माल, रासायनिक पदार्थ और जैव रसायनों को खरीदने के लिए) (व्यावसायिककरण के लिए एनआरडीसी को सौंपी गई तकनीकी जानकारी के लिए)

25,000